कविता | Poems

रचयिता - श्री योगेश शर्मा "योगी"


ईमान के बाजार मे सौदागरो का बोलबाला है |
जुबा गिरवी रखते है और खामोशी तौल देते है ||


Post a Comment

और नया पुराने

LISTEN ON "SUNTERAHO.COM" :

LISTEN ON "SUNTERAHO.COM" :