गोपाष्टमी पूजा विधि | Gopashtami Puja Vidhi

Table of Contents (संक्षिप्त विवरण)

गोपाष्टमी पूजा विधि | Gopashtami Puja Vidhi

गोप अष्टमी न १०८ या ८ गायां की पूजा करणूं। एकासणो करणूं ।

फराल का बरत – कोई एक महिनो फराल करर बरत कर । राज-गीरो भगर, आलु फल, साबुदाणा, आदि को फराल बनाकर लेणूं । सेंधा नमक को उपयोग करणूं । ब्राह्मण न फराल कराणूं और यथा शक्ति दान धरम करणूं ।

दुगडया – २ चार बजां क बाद भोजन करणूं। एक धाण खाणूं । खाली गेहूं, गो-मूत्र म भिगाकर हाथ सूं आटो पीसकर खाणूं तीस ब्राह्मण जीमाणूं, तीस सज नहीं खावे तो एक तो जोमाणूं । शक्ति सारु दान दक्षिणा देणूं ।

इसे भी पढ़े[छुपाएँ]

मारवाड़ी व्रत व त्यौहार की कहानिया व गीत

विनायकजी की कहानियाँ

सुरजजी की कहानियाँ

पथवारी की कहानी

लपसी तपसी की कहानी

शीतला सप्तमी की कहानी व गीत

चौथ का व्रत २०२१

महेश नवमी २०२१

वट सावित्री व्रत २०२१

फूल बीज की कहानी

भादवा की चौथ की कहानी

हरतालिका की कहानी

बायाजी की पूजा | केसरिया कंवर जी की पूजा | भैरव जी की पूजा विधि

भाई पंचमी | ऋषि पंचमी

इसे भी पढ़े :   दीपावली पर निबंध | diwali par nibandh | दिवाली पूजा विधि | diwali puja vidhi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *