माया कैलेंडर | Mayan Calendar

सन २०१२ में पुरी दुनिया में एक अफवाह फ़ैली की २१ दिसम्बर २०१२ को हमारी दुनिया तबाह हो जाएगी | इस समाचार को सभी न्यूज चैनलो ने अपनी हेडलाइंस पर छापा और इस पर एक हालीवुड फिल्म २०१२ के नाम से आई | फिल्म में हमारी दुनिया का अंत भी दिखाया गया है | 


यह अफवाह इसलिए फ़ैली क्योकि बहुत से लोगो का कहना है की माया सभ्यता का कैलेण्डर २१ दिसंबर २०१२ के बाद ख़त्म हो जाएगा | उस कैलेंडर में २१ दिसंबर २०१२ के आगे की तिथी को नहीं दर्शाया गया है, इसलिए काफी सारे लोग इस बात से घबराए हुए थे | लेकिन ये तब गलत हुई जब इस तिथि में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ और यह कैलेंडर ऐसी कोई जानकारी भी नही देता है |


तो आईये जानते है, माया कैलेंडर के बारे में | 


माया सभ्यता का ये कैलेंडर पूरे पाँच चरणो मे बना है | हर एक साल मे हजारो सालो की तारीखों को दर्शाया गया है और पांचवे चरण की आखरी तारीख है २१ दिसंबर २०१२

माया सभ्यता का कैलेंडर मुख्य रूप से तीन कैलेंडर से मिलकर बना है जिसमे पहला है  The Long Count, दूसरा है Tzolkin और तीसरा है Haab जिसे Civil Calendar भी कहा जाता है |

 

Tzolkin और Haab दिनों की गणना करते थे, वही Long Count लम्बे समय की गणना के लिए उपयोग किया जाता था |


Haab Calendar अर्थात Civil Calendar, वह आज उपयोग में ली जाने वाली कैलेंडर से बहुत कुछ मेल खाता है | इसमें ३६५ दिन होते है लेकिन फर्क यह है की इस कैलेंडर में १८ माह होते है और हर एक माह २० दिनों का होता है इस प्रकार ३६० दिन होते है पर इसमें १९वा माह भी होती है जिसमे केवल ५ दिन होते है और इस ५ दिनों को माया सभ्यता में अशुभ दिन माना जाता था | इस कैलेंडर को माया सभ्यता के द्वारा सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता था, क्योकि यह एक सामान्य उपयोगी कैलेंडर था | इससे तरीख को मापा जा सकता था और दिन का पता लगाया जा सकता था |

 

Tzolkin को Devine Calendar अर्थात देवताओ का कैलेंडर भी कहा जाता था | इस कैलेंडर का उपयोग माया सभ्यता में किसी पौराणिक त्यौहार, किसी कार्यक्रम और किसी नवजात बच्चे के नामकरण के लिए उपयोग में लिया जाता था | इस कैलेंडर में २६० दिन होते है जो २० भागो में बटे हुए है और हर एक भाग में १३ दिन होते है |


 Long Coun को लंबे समय की गणना के लिए उपयोग किया जाता था | इस कलेंडर मे तिथि की गणना के लिए विशेष विधि होती थी | माया सभ्यता मे १ दिन को १ किन (KIN) कहा जाता था | २० किन मिलकर १ यूनल (Uinal) होता था | १८ यूनल मिलकर १ टोन (Tun) होता था, जो ३६० दिनो का होता था और २० टोन मिलकर १ कार्टून (Katun) होता था जो ७२०० दिनो का होता था | इसी प्रकार २० कार्टून मिलकर १ बकतून (Baktun) होता था | माया सभ्यता का ये कलेंडर इसी विधि से कार्य करता था | १३ बकतून के खत्म होने के बाद ये कलेंडर फिर से जीरो से शुरू होता था जो लगभग ५,१२५ वर्षो मे खत्म हो जाती थी |

२१ दिसंबर २०१२ की तिथि भी कुछ ऐसा ही दिन थी जिसे लोगो ने मानव सभ्यता के अंत की तरह देखा बल्कि यह सिर्फ माया सभ्यता के कलेंडर के अंत का दिन था |                 

Post a Comment

और नया पुराने